Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

असली पप्पू

न मील में
मज़दूर सुरक्षित!
न खेत में
किसान सुरक्षित!
न अस्पताल में
मरीज़ सुरक्षित!
न सीमा पर
जवान सुरक्षित!!
असली पप्पू
कौन है?
मेरे देश की मीडिया
मौन है!
#BycottGodiMedia #हक
#इंकलाब #क्रांतिकारी #सियासत
#Press #Politics #हल्लाबोल
#China #India #राजनीति
#चीन #भारत #ARMY #सच

425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
प्यार का बँटवारा
प्यार का बँटवारा
Rajni kapoor
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
Ranjeet kumar patre
🙅खरी-खरी🙅
🙅खरी-खरी🙅
*Author प्रणय प्रभात*
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
*सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक के प्रारंभिक पंद्रह वर्ष*
*सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक के प्रारंभिक पंद्रह वर्ष*
Ravi Prakash
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"पहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
मैंने एक दिन खुद से सवाल किया —
SURYA PRAKASH SHARMA
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
चिंगारी
चिंगारी
Dr. Mahesh Kumawat
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
2959.*पूर्णिका*
2959.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...