Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

“असम्भव”

“असम्भव”
असम्भव वह नहीं
जो हम कर नहीं पाते,
असम्भव वह है
जो हम करना नहीं चाहते.

1 Like · 1 Comment · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
कुदरत
कुदरत
manisha
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
साहित्य क्षेत्रे तेल मालिश का चलन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*Author प्रणय प्रभात*
खूबसूरती
खूबसूरती
RAKESH RAKESH
काश कही ऐसा होता
काश कही ऐसा होता
Swami Ganganiya
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
सर्वनाम के भेद
सर्वनाम के भेद
Neelam Sharma
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
Bodhisatva kastooriya
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
Ravi Prakash
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
वरदान
वरदान
पंकज कुमार कर्ण
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
हे चाणक्य चले आओ
हे चाणक्य चले आओ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
संजय कुमार संजू
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
Loading...