Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

अश्रु

अश्रु ढ़रक आते हैं
अनायास ही
नेत्रों से
अंजन को
क्षालन के लिए
या
उर के
कुंज में छिपी
दारूण वेदना को
मुख़्तसर
करने के लिए।
विनोद की
अतिशयता भी
अक्षुनीर की
निमित्त बनती है
हिमगिरि के
आगार की तरह
और
बुहार कर
ले जाती है
अंतस की
छिछली
पीड़ा को
अपने साथ
सुदूर
सघन कानन में।

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
कवि दीपक बवेजा
कभी कभी अच्छा लिखना ही,
कभी कभी अच्छा लिखना ही,
नेताम आर सी
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
मैकदे को जाता हूँ,
मैकदे को जाता हूँ,
Satish Srijan
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सफ़र
सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
भारत के बदनामी
भारत के बदनामी
Shekhar Chandra Mitra
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"खाली हाथ"
Er. Sanjay Shrivastava
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Sakshi Tripathi
Loading...