Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

*अयोध्या*

अयोध्या

अयोध्या नगरी का हुआ विकास,
जो थी सदा से भक्तों की खास।
वर्षों बाद समय यह आया,
रामलला को साक्षात मंदिर में पाया।

राम जन्मभूमि,हनुमानगढ़ी,
सरयू तट और कनक भवन
दर्शन कर,
भारतवासियों ने हर्षोल्लास पाया।

राम नवमी,गुरु पूर्णिमा,
सावनझूला व कार्तिक परिक्रमा
आदि उत्सवों को सब ने
प्रेम पूर्वक यहां मनाया।

रेलवे, एयरपोर्ट, स्टेशन, परिवहन
और होटल सेवाओं से
अयोध्या तीर्थ स्थल में,
अति महत्वपूर्ण बदलाव है आया।

साधु संतों की साधना भूमि
संग प्रतिष्ठित आश्रम के,
कर दर्शन हो रहा है
भक्तों का प्रफुल्लित अंत:मन।

अगस्त 2020 में शुरुआत हुई
इसके निर्माण की।
यही तो ऐतिहासिक
साकेत धाम है।

रहते थे यहां गौतम बुद्ध
और महावीर।
जैन शिष्यों की जन्मस्थली में
भी वर्णित स्थल का नाम है।

आओ इस नगरी के करें,
हम सब दर्शन ।
ताकि प्रभु श्री राम पर,
कर सके अपनी भक्ति अर्पण।
डॉ प्रिया।
अयोध्या।

Language: Hindi
1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
मायका वर्सेज ससुराल
मायका वर्सेज ससुराल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
*प्रणय प्रभात*
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
pita
pita
Dr.Pratibha Prakash
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
मां तो फरिश्ता है।
मां तो फरिश्ता है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी नही॔ होती
ज़िंदगी नही॔ होती
Dr fauzia Naseem shad
भाग्य - कर्म
भाग्य - कर्म
Buddha Prakash
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
You call out
You call out
Bidyadhar Mantry
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
मेहनत कर तू फल होगा
मेहनत कर तू फल होगा
Anamika Tiwari 'annpurna '
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
Ramnath Sahu
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
*मची हैं हर तरफ ऑंसू की, हाहाकार की बातें (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
3349.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3349.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तुम आ जाते तो उम्मीद थी
तुम आ जाते तो उम्मीद थी
VINOD CHAUHAN
जितना आपके पास उपस्थित हैं
जितना आपके पास उपस्थित हैं
Aarti sirsat
Loading...