Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

आम्बेडकर मेरे मानसिक माँ / MUSAFIR BAITHA

यह देह जैविक जननी की जनी हुई है
बाकी सब आम्बेडकर-माँ का दिया हुआ
शब्द जो मैं बोलता हूँ
तर्क जो तेरे विरुद्ध रखता हूँ
चाय–पानी जो मैं तुम्हारे साथ
करने के अब काबिल हूँ

पानी जिसे तुमने जात में रंग दिया था
वह अपना स्वाभाविक रंग पाने का
फिर से अब अधिकारी हुआ

शिक्षा जो सिर्फ तेरी थी
पा कर उसे अब
अपनी अस्मिता पहचानने
और रक्षा में सतत मैं प्रयत्नरत हूँ

माँ तो तेरी भी दो है मेरी तरह
माँ तो तेरी भी एक पुरुष-माँ है मेरी तरह
जबतक तुम इस ब्राह्मणवादी माँ-मुख से
ब्रह्मा-मुख से जनमते रहोगे
इस मानस-माँ पर निर्भर रहोगे
तुम्हारी देह की जननी
और तमाम जैविक माएं
तेरे होने से कलंकित होती रहेंगी
तुम्हारी पुरुष-माँ
तुझे अमानव बनाती है
जबकि मेरे आम्बेडकर-माँ
तुम्हारे मनुसोच से मुझे लड़ने भिड़ने का
पुरजोर माद्दा देते हैं
सहारे जिनके
तुझे दर्द, दुत्कार और चुनौती देने वाली
हर रचना अब रचने में सक्षम हुआ हूँ!

मुझे
अपनी माओं पर गर्व है
मानसिक माँ पर ख़ास

और
तुझे?

Language: Hindi
1 Like · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
.
.
Amulyaa Ratan
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
दुष्यन्त 'बाबा'
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
■ ट्रिक
■ ट्रिक
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
Surinder blackpen
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
बापू गाँधी
बापू गाँधी
Kavita Chouhan
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2436.पूर्णिका
2436.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
// ॐ जाप //
// ॐ जाप //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
Dr MusafiR BaithA
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
Loading...