Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

#अमावसी_ग्रहण

#अमावसी_ग्रहण
■ इस बार त्रिदोष के त्रिकोण में महापर्व। पहला चुनाव, दूसरा रोगों का प्रभाव, तीसरा मानसिक तनाव।

1 Like · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
योग का एक विधान
योग का एक विधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
अकेले हुए तो ये समझ आया
अकेले हुए तो ये समझ आया
Dheerja Sharma
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
ऑनलाइन फ्रेंडशिप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
समाजसेवा
समाजसेवा
Kanchan Khanna
स्नेह
स्नेह
Shashi Mahajan
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
जिंदगी का भरोसा कहां
जिंदगी का भरोसा कहां
Surinder blackpen
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
3245.*पूर्णिका*
3245.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
Subhash Singhai
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"आज की कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
लालच
लालच
Vandna thakur
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
— कैसा बुजुर्ग —
— कैसा बुजुर्ग —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...