Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।

संघर्ष भरी उस यात्रा का, हर पड़ाव हीं अनजाना था,
शोलों और काँटों पर, नंगे पगों को चलते जाना था।
आरम्भ हुआ एक युद्ध, जिससे सम्मान का ताना-बाना था,
मिथ्या के भ्रम जाल से, चोटिल हृदय को मुक्ति पाना था।
आस्था के दीपक को बुझाने, आंधी बस एक बहाना था,
नींव में छल के बीज़ निहित थे, उससे क्या बच पाना था।
पीड़ा की सीमा थी टूटी, संवेदनाओं को स्तब्द्धता अपनाना था,
अश्रु तो कब के सूख चुके थे, बस चिन्हों को मिटाना था।
शाश्वततापूर्ण धारणाओं को, क्षणभंगुरता में मिल जाना था,
स्वप्नों को धराशाही करना, नियति ने भी ठाना था।
विश्वास के टूटे टुकड़ों को, नयनों में चुभते जाना था,
अन्धकार की गोद मिली, जब विस्मृत स्वयं को हीं कर जाना था।
फिर गूंजते उस मौन से, अस्तित्व को भी तो बचाना था,
शून्य पड़े हृदय को, नव-आशाओं से संचारित करवाना था।
एक नयी रणभूमि सजी, जिधर क़दमों को बढ़ाना था,
पर अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।

5 Likes · 5 Comments · 300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मुर्दे भी मोहित हुए
मुर्दे भी मोहित हुए
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
LK99 सुपरकंडक्टर की क्षमता का आकलन एवं इसके शून्य प्रतिरोध गुण के लाभकारी अनुप्रयोगों की विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
फितरत
फितरत
kavita verma
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
*देना सबको चाहिए, अपनी ऑंखें दान (कुंडलिया )*
*देना सबको चाहिए, अपनी ऑंखें दान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
महफ़िल में कुछ जियादा मुस्कुरा रहा था वो।
सत्य कुमार प्रेमी
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
*भिन्नात्मक उत्कर्ष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*Author प्रणय प्रभात*
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
आसुओं की भी कुछ अहमियत होती तो मैं इन्हें टपकने क्यों देता ।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...