Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

अपनों के अपनेपन का अहसास

अपनों के अपनेपन का अहसास
जिंदगी को खूबसूरत बनाए रखता है
वह पास नहीं है तो क्या हुआ
मिलने की आस में ही
जिंदगी की सांसों की
डोर को बांधे रखता है।

हरमिंदर कौर ,(अमरोहा )

2 Likes · 1 Comment · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
धर्म अर्थ कम मोक्ष
धर्म अर्थ कम मोक्ष
Dr.Pratibha Prakash
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
भूत प्रेत का भय भ्रम
भूत प्रेत का भय भ्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
*सुंदर लाल इंटर कॉलेज में विद्यार्थी जीवन*
*सुंदर लाल इंटर कॉलेज में विद्यार्थी जीवन*
Ravi Prakash
होली
होली
Dr. Kishan Karigar
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*Author प्रणय प्रभात*
2542.पूर्णिका
2542.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मेरी बेटी है नंदिनी"
Ekta chitrangini
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
रपटा घाट मंडला
रपटा घाट मंडला
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
Loading...