Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2022 · 1 min read

अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर आते हैं।

कभी-कभी सपने भी, आँखों के कसूरवार बन जाते हैं,
जब इंद्रधनुषी रंगों से, कोरे मन की सतह को रंग जाते हैं।
क़दमों से जमीं छीन, बादलों का पंख दे भरमाते हैं,
रौशनी की बाढ़ दिखा, चेतन मन को चुंधियाते हैं।
कश्ती में बिठा, उस पार ले जाने की कसमें खाते हैं,
और ज़िन्दगी के अध्यायों को, बिलकुल सहज़ सा प्रतीत करवाते हैं।
फिर एक दिन सपने, अपनी हीं आँखों में टूटकर बिखर जाते हैं,
और वही टुकड़े पनाहगार आँखों को ज़ख़्मी कर जाते हैं।
हसरतों के पंख आसमां में हीं कुछ ऐसे जल जाते हैं,
की गिरते हुए वो राख बन, बंजर भूमि का कारण कहलाते हैं।
ख्वाहिशों की लाश देख ऐसे, व्याकुलता की चरम सीमा पर पहुँच जाते हैं,
की अपनी कश्ती को मझधार में, स्वयं के हाथों हीं डुबाते हैं।
मन्नतों के दीयों को जब, अपने समक्ष बुझता पाते हैं,
तो अपने हीं घाव कुरेदकर, उसे और भी गहरा कर जाते हैं।
फिर कभी अँधेरी खाई में, एक रौशनी टिमटिमाती देख आते हैं,
उम्मीदों की टूटी डोर को, आस्था के भाव से सजाते हैं।
हौसलों को बैशाखी बना, लड़खड़ाते क़दमों का सहारा बन जाते हैं,
और नए दृष्टिकोण से, नयी मंजिलों को देख मुस्कुराते हैं।
ऐसे हीं टूटते-बिखरते ज़िन्दगी को जीना सीख जाते हैं,
और अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर आते हैं।

8 Likes · 8 Comments · 285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-387💐
💐प्रेम कौतुक-387💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"हर सुबह कुछ कहती है"
Dr. Kishan tandon kranti
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
रंजिश हीं अब दिल में रखिए
Shweta Soni
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
दरबारी फनकार
दरबारी फनकार
Shekhar Chandra Mitra
मिसाल उन्हीं की बनती है,
मिसाल उन्हीं की बनती है,
Dr. Man Mohan Krishna
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*
*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
आ जाते हैं जब कभी, उमड़ घुमड़ घन श्याम।
surenderpal vaidya
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धितायं।
Shashi Dhar Kumar
सत्य दृष्टि (कविता)
सत्य दृष्टि (कविता)
Dr. Narendra Valmiki
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
2373.पूर्णिका
2373.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
Kshma Urmila
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
तुम मेरी
तुम मेरी
Dr fauzia Naseem shad
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
देश हमारा
देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
कभी हुनर नहीं खिलता
कभी हुनर नहीं खिलता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
Loading...