Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

अपने किसी पद का तू

अपने किसी पद का तू ,मत कर इतना गुमान।
अपने किसी पद पर तू , सबका कर तू सम्मान।।
पद के अभिमान में तू ,मत भूल इंसानियत।
पद पर करके लालच,मत बेच अपना ईमान।।
अपने किसी पद का तू ———————–।।

हो जा कुर्बान तू ,ईमान से अपने पद पर।
करेगी याद दुनिया, तुमको तेरे इस पद पर।।
सबकी कर तू भलाई, पद पर बनकर इंसान।
पद पर करके लालच,मत बेच अपना ईमान।।
अपने किसी पद का तू ———————।।

पाने को कोई पद ,करते हैं क्यों गलत काम।
भ्रष्टाचार – लूटपाट, करके खुद को बदनाम।।
पाकर ऐसे कोई पद, नहीं बन ऐसे शैतान।
पद पर करके लालच,मत बेच अपना ईमान।।
अपने किसी पद का तू ———————।।

पाकर सरकारी पद यह, खुद को मान खुशनसीब।
लेकिन पाकर यह पद फिर, कामचोरी तू मत सीख।।
पाकर सरकारी पद तू , नहीं बोल खुद को भगवान।
पद पर करके लालच, मत बेच अपना ईमान।।
अपने किसी पद का तू ———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
दुनिया में क्यों दुख ही दुख है
दुनिया में क्यों दुख ही दुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
कवि रमेशराज
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
धूर अहा बरद छी (मैथिली व्यङ्ग्य कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दवा के ठाँव में
दवा के ठाँव में
Dr. Sunita Singh
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
Anand Kumar
देश भक्ति
देश भक्ति
Sidhartha Mishra
ज़िंदगी की उलझन;
ज़िंदगी की उलझन;
शोभा कुमारी
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
** मंजिलों की तरफ **
** मंजिलों की तरफ **
surenderpal vaidya
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
के जब तक दिल जवां होता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
Sonam Pundir
■ क़ुदरत से खिलवाड़ खुद से खिलवाड़। छेड़ोगे तो छोड़ेगी नहीं।
■ क़ुदरत से खिलवाड़ खुद से खिलवाड़। छेड़ोगे तो छोड़ेगी नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
बंदरा (बुंदेली बाल कविता)
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
गौरी।
गौरी।
Acharya Rama Nand Mandal
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
पत्थरवीर
पत्थरवीर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...