Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

अधिकांश लोगों के शब्द

अधिकांश लोगों के शब्द
मतलब रहने तक
“रसगुल्ले” जैसे होते हैं,
जो मतलब पूरा हो जाने के बाद
“गुल्ले” बनकर रह जाते हैं।।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Destiny
Destiny
Sukoon
अपने वतन पर सरफ़रोश
अपने वतन पर सरफ़रोश
gurudeenverma198
....प्यार की सुवास....
....प्यार की सुवास....
Awadhesh Kumar Singh
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
कैसी
कैसी
manjula chauhan
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का संकल्प...
■ आज का संकल्प...
*Author प्रणय प्रभात*
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
Pravesh Shinde
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
हर रंग देखा है।
हर रंग देखा है।
Taj Mohammad
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*तुष्टीकरण : पाँच दोहे*
*तुष्टीकरण : पाँच दोहे*
Ravi Prakash
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Manisha Manjari
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
शीर्षक - बुढ़ापा
शीर्षक - बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-81💐
💐अज्ञात के प्रति-81💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
Loading...