Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी…!

अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी…!
अज्ञात है राहें सारी अज्ञात सी मंजिलें भी..!!

अज्ञात है दर्द भी अज्ञात है आँसू भी…!
अज्ञात है यादें सारी अज्ञात से फासलें भी..!

अज्ञात है शब्द भी अज्ञात है मुलाकात भी…!
अज्ञात है ख्वाहिशें सारी अज्ञात सी गजलें भी..!!

अज्ञात है सपने भी अज्ञात है अपने भी…!
अज्ञात है सासे सारी अज्ञात सी जिन्दगी भी..!!

तुम आकर इस अज्ञात का कलंक मिटा देना…!
अज्ञात से मुक्त करके मुझे तुम ज्ञात कर लेना..!!

~ आरती सिरसाट

78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बेजुबान"
Dr. Kishan tandon kranti
जन मन में हो उत्कट चाह
जन मन में हो उत्कट चाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
होली
होली
Kanchan Khanna
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
जिस के पास एक सच्चा दोस्त है
shabina. Naaz
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सृष्टि की उत्पत्ति
सृष्टि की उत्पत्ति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राज़ बता कर जाते
राज़ बता कर जाते
Monika Arora
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुझे सहारा नहीं तुम्हारा साथी बनना है,
मुझे सहारा नहीं तुम्हारा साथी बनना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
फितरत या स्वभाव
फितरत या स्वभाव
विजय कुमार अग्रवाल
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
👌ग़ज़ल👌
👌ग़ज़ल👌
*प्रणय प्रभात*
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
Phool gufran
3183.*पूर्णिका*
3183.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
Ravi Prakash
मैं........ लिखता हूँ..!!
मैं........ लिखता हूँ..!!
Ravi Betulwala
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
Shweta Soni
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...