Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2022 · 1 min read

अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा

अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷
11 जून 2019 मंगलवार से श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी के श्री मुख से रामकथा का संगीतमय आयोजन अग्रवाल धर्मशाला, मिस्टन गंज, रामपुर में चल रहा है।
रामायणी जी संगीतमय रामकथा कहते हैं ।आवाज मधुर है तथा गायन में भी रस है ।तबले और बाजे पर सुमधुर कंठ से उनका साथ देने के लिए मंच पर विद्वान विराजमान रहते हैं । रामायण की चौपाइयों को महाराज श्री बहुत सुंदर प्रस्तुत कर रहे हैं। बीच बीच में उर्दू से प्रभावित शेरो- शायरी का पुट भी लगा रहता है।
मुख्य विषय जो 11 जून 2019 मंगलवार की सायंकाल महाराज श्री ने उठाया, वह था कि भगवान की प्राप्ति कैसे हो ? और उत्तर आपने यही दिया कि बस यह जो प्रश्न है कि भगवान की प्राप्ति कैसे हो , इसका बराबर बार-बार स्मरण करते रहो। भगवान कृपा से प्राप्त होते हैं और समर्पण भाव चाहते हैं।

119 Views
You may also like:
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Meenakshi Nagar
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
Loading...