Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2022 · 1 min read

अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा

अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷
11 जून 2019 मंगलवार से श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी के श्री मुख से रामकथा का संगीतमय आयोजन अग्रवाल धर्मशाला, मिस्टन गंज, रामपुर में चल रहा है।
रामायणी जी संगीतमय रामकथा कहते हैं ।आवाज मधुर है तथा गायन में भी रस है ।तबले और बाजे पर सुमधुर कंठ से उनका साथ देने के लिए मंच पर विद्वान विराजमान रहते हैं । रामायण की चौपाइयों को महाराज श्री बहुत सुंदर प्रस्तुत कर रहे हैं। बीच बीच में उर्दू से प्रभावित शेरो- शायरी का पुट भी लगा रहता है।
मुख्य विषय जो 11 जून 2019 मंगलवार की सायंकाल महाराज श्री ने उठाया, वह था कि भगवान की प्राप्ति कैसे हो ? और उत्तर आपने यही दिया कि बस यह जो प्रश्न है कि भगवान की प्राप्ति कैसे हो , इसका बराबर बार-बार स्मरण करते रहो। भगवान कृपा से प्राप्त होते हैं और समर्पण भाव चाहते हैं।

361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उसकी खामोशियों का राज़ छुपाया मैंने।
उसकी खामोशियों का राज़ छुपाया मैंने।
Phool gufran
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
***इतना जरूर कहूँगा ****
***इतना जरूर कहूँगा ****
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
कदम भले थक जाएं,
कदम भले थक जाएं,
Sunil Maheshwari
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नारी क्या है
नारी क्या है
Ram Krishan Rastogi
"क्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
ख़ुशबू आ रही है मेरे हाथों से
ख़ुशबू आ रही है मेरे हाथों से
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
**आजकल के रिश्ते*
**आजकल के रिश्ते*
Harminder Kaur
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
VINOD CHAUHAN
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
"चिराग"
Ekta chitrangini
Loading...