Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2016 · 1 min read

अगर मैं झूठ बोलूँ

अगर मैं झूठ बोलूँ तो मेरा ईमान जाता है ।
मगर सच पर कहाँ मेरे किसी का ध्यान जाता है ।।

बदलते दौर में रिश्ते रहें महफ़ूज़ भी कैसे ?
कभी तक़्सीम आँगन तो कभी दालान जाता है ।। ( = विभाजित )

निगाहों में उतरने का सलीक़ा है अजब उसका ।
वो चेहरा देख कर सारी हक़ीक़त जान जाता है ।।

यही इक बात ही तेरी जुदा रहती है औरों से ।
बमुश्किल मानता है पर तू मेरी मान जाता है ।।

उसे ख़ुशबू परखने का हुनर अब तक नहीं आया ।
सुना था वो तो साये से शजर पहचान जाता है ।।

न क्यूँ बर्दाश्त कर लें हम परेशानी फ़क़त कुछ दिन ।
बुलंदी पर अगर अपना ये हिन्दुस्तान जाता है ।।

बँधी है आँख पर पट्टी तो सच आये नज़र कैसे ?
क़यामत पर कहाँ उसका कभी संज्ञान जाता है ।।

NAZAR DWIVEDI
8989502293

236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोयल कूके
कोयल कूके
Vindhya Prakash Mishra
💐अज्ञात के प्रति-130💐
💐अज्ञात के प्रति-130💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युवा भारत के जानो
युवा भारत के जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अरबों रुपए के पटाखे
अरबों रुपए के पटाखे
Shekhar Chandra Mitra
प्राण vs प्रण
प्राण vs प्रण
Rj Anand Prajapati
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
■ हिप-हिप हुर्रे...
■ हिप-हिप हुर्रे...
*Author प्रणय प्रभात*
इतना कभी ना खींचिए कि
इतना कभी ना खींचिए कि
Paras Nath Jha
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
मेरी कविताएं
मेरी कविताएं
Satish Srijan
चल पड़ते हैं कभी रुके हुए कारवाँ, उम्मीदों का साथ पाकर, अश्क़ बरस जाते हैं खामोशी से, बारिशों में जैसे घुलकर।
चल पड़ते हैं कभी रुके हुए कारवाँ, उम्मीदों का साथ पाकर, अश्क़ बरस जाते हैं खामोशी से, बारिशों में जैसे घुलकर।
Manisha Manjari
नवजात बहू (लघुकथा)
नवजात बहू (लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
तब जानोगे
तब जानोगे
विजय कुमार नामदेव
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
मुक्तक - वक़्त
मुक्तक - वक़्त
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
*किसी फिल्म की, जीवन एक कहानी है 【हिंदी गजल/ गीतिका 】*
*किसी फिल्म की, जीवन एक कहानी है 【हिंदी गजल/ गीतिका 】*
Ravi Prakash
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
gurudeenverma198
कोई अपना नहीं है
कोई अपना नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...