Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki

Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Pedo ki saugat mili hmko ambar ke ratno si
Jajbati hum insano ne fir uska vyapar kiya
Tod diye sari bandish ko jamkar inka sanghar kiya😍 by sakshi

81 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
Anil chobisa
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दलित के भगवान
दलित के भगवान
Vijay kannauje
चाह और आह!
चाह और आह!
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
इस कदर वाकिफ है मेरी कलम मेरर जज़्बातों से, अगर मैं इश्क़ लिखन
इस कदर वाकिफ है मेरी कलम मेरर जज़्बातों से, अगर मैं इश्क़ लिखन
Dr. Rajiv
-- मृत्यु जबकि अटल है --
-- मृत्यु जबकि अटल है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हँसी
हँसी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
*फुलझड़ी ही छोड़िए 【मुक्तक】*
*फुलझड़ी ही छोड़िए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
तेरी यादों की खुशबू
तेरी यादों की खुशबू
Ram Krishan Rastogi
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
बदला सा......
बदला सा......
Kavita Chouhan
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
gurudeenverma198
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
प्रदीप कुमार गुप्ता
■ मंगल कामनाएं
■ मंगल कामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
नरम दिली बनाम कठोरता
नरम दिली बनाम कठोरता
Karishma Shah
डिगरी नाहीं देखाएंगे
डिगरी नाहीं देखाएंगे
Shekhar Chandra Mitra
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कहा तुमने कभी देखो प्रेम  तुमसे ही है जाना
कहा तुमने कभी देखो प्रेम तुमसे ही है जाना
Ranjana Verma
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
2293.पूर्णिका
2293.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं पिता हूं।
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
मुस्तहकमुल-'अहद
मुस्तहकमुल-'अहद
Shyam Sundar Subramanian
Loading...