Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2022 · 1 min read

किताब।

शायद आपसे बाकी है कोई,
पिछले जन्म का हिसाब,

इसीलिए आपको भेजता हूं,
मैं अक्सर कोई किताब,

ना गिनिए कि अब तक आपको,
मैंने दी हैं कितनी किताब,

निस्वार्थ भाव का दुनिया में,
कहां होता है कोई जवाब,

आपके प्रति मेरे सम्मान का,
प्रतीक है हर किताब,

जब तक दे सकूंगा तब तक,
यूं ही आती रहेगी किताब,

अब देता हूं तो रख लीजिए,
किताब ही तो है जनाब।

कवि- अंबर श्रीवास्तव।

Language: Hindi
1 Like · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Amber Srivastava
View all
You may also like:
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
💐प्रेम कौतुक-173💐
💐प्रेम कौतुक-173💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भगतसिंह से सवाल
भगतसिंह से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
यू ही
यू ही
shabina. Naaz
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लक्ष्य एक होता है,
लक्ष्य एक होता है,
नेताम आर सी
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
कहमुकरी: एक दृष्टि
कहमुकरी: एक दृष्टि
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"आकुलता"- गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
सत्य कुमार प्रेमी
गज़ब की शीत लहरी है सहन अब की नहीं जाती
गज़ब की शीत लहरी है सहन अब की नहीं जाती
Dr Archana Gupta
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी  जाऊ
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी जाऊ
Swami Ganganiya
■ आज का मुक्तक...
■ आज का मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब कोई महिला किसी के सामने पूर्णतया नग्न हो जाए तो समझिए वह
जब कोई महिला किसी के सामने पूर्णतया नग्न हो जाए तो समझिए वह
Rj Anand Prajapati
💝एक अबोध बालक💝
💝एक अबोध बालक💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...