Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2023 · 1 min read

💐 Prodigy Love-9💐

Hey Dear!
You are,for me, beyond truth.
But why?My benign attitude is not liked by you (or)
What?
You were not able for it.
Not accept by you.
You are you.
No one can substitute.
Keep smiling with your fate.

©® Abhisek Parashar “Aanand”

61 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-149💐
💐अज्ञात के प्रति-149💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
पहले प्यार का एहसास
पहले प्यार का एहसास
Surinder blackpen
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagwan Roy
घना अंधेरा
घना अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
*हाथ में पिचकारियाँ हों, रंग और गुलाल हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट  हो गया है
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट हो गया है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
Anju ( Ojhal )
हर रंग देखा है।
हर रंग देखा है।
Taj Mohammad
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
मैं चला बन एक राही
मैं चला बन एक राही
AMRESH KUMAR VERMA
*
*
Rashmi Sanjay
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी ग़मी में यूँ निहाँ सबका मलाल था,
उसकी ग़मी में यूँ निहाँ सबका मलाल था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एकांत बनाम एकाकीपन
एकांत बनाम एकाकीपन
Sandeep Pande
बालिका दिवस
बालिका दिवस
Satish Srijan
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
Er.Navaneet R Shandily
दो💔 लफ्जों की💞 स्टोरी
दो💔 लफ्जों की💞 स्टोरी
Ms.Ankit Halke jha
मांँ की सीरत
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
बहुत मुश्किलों से
बहुत मुश्किलों से
Dr fauzia Naseem shad
एक होशियार पति!
एक होशियार पति!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"मकड़जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...