Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

गजल

109/09/07/2016
20.07.2016

सनम अब छोड़ दे तू बेरुखी को
महब्बत में न कर रुसवा किसी को

मुनव्वर प्यार से है दिल की दुनिया
मुबारकबाद ऐसी रौशनी को

किसी दिन दुश्मनों से पूछ लूंगा
कहाँ ढूंढूं मैं अपनी दोस्ती को

पराया जुर्म अपने नाम करके
मिटाना चाहता हूँ दुश्मनी को

मुझे बस मुस्कुरा के देख लो तुम
लुटा दूंगा मैं तुमपर जिंदगी को

मुझे काफिर समझता है ज़माना
खुदा जाने है मेरी बन्दगी को

किसी की याद में अब खो गयी है
चलो ढूंढें जरा हम जिंदगी को

सुख़नवर जानता है सारे पहलू
ग़ज़ल में ढूंढ लेगा सादगी को

महब्बत की डगर इतनी हसीं है
तलाश ए यार में पाया ख़ुशी को

कभी तो हाल मेरा पूछ ले फिर
मिटा दे “दर्द” की इस तश्नगी को

दर्द लखनवी
मनमोहन सिंह भाटिया
कॉपीराइट

1 Comment · 523 Views
You may also like:
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
Writing Challenge- रहस्य (Mystery)
Sahityapedia
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
रानी अंग्रेजी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बेदर्दी बालम
Anamika Singh
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
घड़ी
AMRESH KUMAR VERMA
रक्तरंजन से रणभूमि नहीं, मनभूमि यहां थर्राती है, विषाक्त शब्दों...
Manisha Manjari
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो चुप सी दीवारें
Kavita Chouhan
मेरी दादी के नजरिये से छोरियो की जिन्दगी।।
Nav Lekhika
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
हिंदी
Vandana Namdev
तितली
लक्ष्मी सिंह
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
अकेले-अकेले
Rashmi Sanjay
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
साँप का जहर जीवन भी देता है
राकेश कुमार राठौर
बेटी तो ऐसी ही होती है
gurudeenverma198
✍️आओ आईना बनकर देखे✍️
'अशांत' शेखर
ताज़गी
Shivkumar Bilagrami
“सुन रहे हैं ना मोदी जी! इमरान अफगानियों को भी...
DrLakshman Jha Parimal
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
भोलाराम का भोलापन
विनोद सिल्ला
इससे बड़ा हादसा क्या
कवि दीपक बवेजा
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...