Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

(9) डूब आया मैं लहरों में !

छोड़ सब भौतिक द्वंद्वों को
साथ लेकर पीड़ित मन को ,
डूब आया मैं लहरों में ।

कहाँ अब कुत्सा का वह जाल ?
कहाँ अब छलना का वह व्याल ?
कहाँ वह मन की तड़प कराल ?
कहाँ करुणा का छल छल ताल ?
उठा , सब को समेट ,रख अलग,
विहंस जागा तंद्रित अलसित ,
डूब आया मैं लहरों में ।

ताल में प्रतिबिंबित सुविशाल
सुदृढ़ मंदिर का गर्वित भाल
लहर में ज्यों बल खाता व्याल
कौन क्या — कब गिनता है काल ?
सुदृढ़ता मन की सारी तोड़ ,
ध्वंश को निष्चिन्ता से जोड़,
तैरता हूँ मैं लहरों में ।

प्रखर सूरज का तपता भाल
करे उसको मज्जित यह ताल
अभी तक वही रहा था शाल
बना पर आखिर पयस्-मराल
छोड़कर सहज सूर्य का ताप
जलज की कोमलता ले साथ
काँपता हूँ मैं लहरों मैं |

न कल होगा यह जलमय ताल,
तप्त हो जाऊँगा तत्काल,
प्रखरता रवि की जल में डाल,
बनूँगा फिर लहरों का जाल |

“चक्रवत भावों का उद्वेग
नहीं ऋजु जीवन की यह रेख
चक्रवत घटनाओं का लेख |
पाप में पुण्य ,पुण्य में पाप
निहित दिखलाते सब अभिलेख |
क्षणों में जीते हम निरुपाय,
संस्कारों से पीड़ित हाय,
नयी पीढ़ी अब चिंतित नित्य,
एक जीवन की गति ही सत्य ,
मृत्यु है अंतिम जिसका लेख |
यही लेकर असार का सार,
इसी दर्शन का लेकर भार,
डूब जाता हूँ लहरों में |

स्वरचित एवं मौलिक
रचयिता : (सत्य ) किशोर निगम

Language: Hindi
126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
फितरत
Surya Barman
जिन्दगी से शिकायत न रही
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
Taj Mohammad
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं......!!
सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
होली की पौराणिक कथाएँ।।।
Jyoti Khari
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
ਅੱਜ ਮੇਰੇ ਲਫਜ਼ ਚੁੱਪ ਨੇ
rekha mohan
■ दूसरा पहलू...
■ दूसरा पहलू...
*Author प्रणय प्रभात*
दिल्ली का मर्सिया
दिल्ली का मर्सिया
Shekhar Chandra Mitra
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
*फिर से बने विश्व गुरु भारत, ऐसा हिंदुस्तान हो (गीत)*
*फिर से बने विश्व गुरु भारत, ऐसा हिंदुस्तान हो (गीत)*
Ravi Prakash
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
टूटा हूँ इतना कि जुड़ने का मन नही करता,
Vishal babu (vishu)
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
-- मैं --
-- मैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
Shyam Sundar Subramanian
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
Loading...