Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं

ज़ह्र अपनों पे ही उगलते हैं
साँप जो आस्तीं में पलते हैं

हम जिताते हैं वोट दे के जिन्हें
वे ही छाती पे मूँग दलते हैं

जाने बदनाम क्यों हैं गिरगिट ये
रंग जब इंसाँ भी बदलते हैं

नाक रगड़ो या अपना सर पटको
दम्भी इंसान कब पिघलते हैं

जिनकी ख़ातिर लड़े ज़माने से
आज कल हम उन्हीं को खलते हैं

दिल-ए-नादाँ को दोष क्या देना
ख़्वाब आँखों में सारे पलते हैं

चलने वाले तो पाते हैं मंजिल
बैठने वाले हाथ मलते हैं

अजय कुमार ‘विमल’

Language: Hindi
249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नहीं, बिल्कुल नहीं
नहीं, बिल्कुल नहीं
gurudeenverma198
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
2683.*पूर्णिका*
2683.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
■ आज की लघुकथा
■ आज की लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
Ravi Prakash
एक और इंकलाब
एक और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
किसको दोष दें ?
किसको दोष दें ?
Shyam Sundar Subramanian
*
*"ब्रम्हचारिणी माँ"*
Shashi kala vyas
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
Atul "Krishn"
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
Loading...