Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

3149.*पूर्णिका*

3149.*पूर्णिका*
🌷 जीवन का आधार है कोई🌷
22 22 212 22
जीवन का आधार है कोई।
समझो तो लाचार है कोई।।
दिल है बेईमान क्या समझे।
बिकता यूं बाजार है कोई।।
बहके बहके ये जमाना है ।
खुद का खुद सरकार है कोई।।
कागज के ये फूल खुशबू दे।
देख यहाँ करतार है कोई ।।
नेक इरादा रख चले खेदू।
करता बेड़ापार है कोई।।
………….✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
20-03-2024बुधवार

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारे सोचने से
हमारे सोचने से
Dr fauzia Naseem shad
* सत्य एक है *
* सत्य एक है *
surenderpal vaidya
.......अधूरी........
.......अधूरी........
Naushaba Suriya
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
जीवन को अतीत से समझना चाहिए , लेकिन भविष्य को जीना चाहिए ❤️
Rohit yadav
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
"नजरें मिली तो"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
तक़दीर का ही खेल
तक़दीर का ही खेल
Monika Arora
एक ज़माना था .....
एक ज़माना था .....
Nitesh Shah
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
एक जिद्दी जुनूनी और स्वाभिमानी पुरुष को कभी ईनाम और सम्मान क
एक जिद्दी जुनूनी और स्वाभिमानी पुरुष को कभी ईनाम और सम्मान क
Rj Anand Prajapati
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
यह प्यार झूठा है
यह प्यार झूठा है
gurudeenverma198
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
दलित लेखक बिपिन बिहारी से परिचय कीजिए / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
जिन्दगी जीना बहुत ही आसान है...
Abhijeet
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
"" *आओ गीता पढ़ें* ""
सुनीलानंद महंत
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
sushil sarna
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
We Would Be Connected Actually
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...