Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

2814. *पूर्णिका*

2814. पूर्णिका
मेहनत से तकदीर बदलती
212 22 22 22
मेहनत से तकदीर बदलती ।
जिंदगी की तहरीर बदलती ।।
घाव भरते मरहम रखते हम ।
रौशनी आज शरीर बदलती ।।
देख सुन कर चलते रहते हैं ।
राह अपनी तदबीर बदलती ।।
हसरतें पूरी होती सच में ।
फितरतें रोज तस्वीर बदलती ।।
ठोकरों से प्यार हमें खेदू।
मंजिलें भी शमशीर बदलती ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-12-2023मंगलवार

202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
गंगा से है प्रेमभाव गर
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD CHAUHAN
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*Author प्रणय प्रभात*
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
23/141.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/141.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
सफर जब रूहाना होता है
सफर जब रूहाना होता है
Seema gupta,Alwar
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
ज़िंदगी का सवाल रहता है
ज़िंदगी का सवाल रहता है
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिंदगी
जिंदगी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
सीप से मोती चाहिए तो
सीप से मोती चाहिए तो
Harminder Kaur
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
Phool gufran
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
भाई बहन का रिश्ता बचपन और शादी के बाद का
भाई बहन का रिश्ता बचपन और शादी के बाद का
Rajni kapoor
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
પૃથ્વી
પૃથ્વી
Otteri Selvakumar
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
इक दिन तो जाना है
इक दिन तो जाना है
नन्दलाल सुथार "राही"
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
Loading...