Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

2589.पूर्णिका

2589.पूर्णिका
🌷 खुशियाँ लेकर आ गए 🌷
22 22 212
खुशियाँ लेकर आ गए ।
सबके दिल में छा गए ।।
सपनें भी पूरे यहाँ ।
दुनिया को हम भा गए ।।
नादानी करते नहीं ।
देख बन कहर ढ़ा गए ।।
आज भुक्कड़ ये लोग है ।
भूख मिटी ना खा गए ।।
चलते खेदू ठान के ।
मंजिल अपनी पा गए ।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
10-10-2023मंगलवार

249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
Even if you stand
Even if you stand
Dhriti Mishra
"सच कहूं _ मानोगे __ मुझे प्यार है उनसे,
Rajesh vyas
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
श्याम सुंदर तेरी इन आंखों की हैं अदाएं क्या।
umesh mehra
ऐतबार कर बैठा
ऐतबार कर बैठा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
Er.Navaneet R Shandily
💐प्रेम कौतुक-300💐
💐प्रेम कौतुक-300💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुश्तैनी मकान.....
पुश्तैनी मकान.....
Awadhesh Kumar Singh
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"लघु कृषक की व्यथा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Unveiling the Unseen: Paranormal Activities and Scientific Investigations
Shyam Sundar Subramanian
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
गरीबी हटाओं बनाम गरीबी घटाओं
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
कवि दीपक बवेजा
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
कोरोना :शून्य की ध्वनि
कोरोना :शून्य की ध्वनि
Mahendra singh kiroula
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
Jitendra kumar
एहसासों से हो जिंदा
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
Loading...