Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

2555.पूर्णिका

2555.पूर्णिका
🌷देखा करो सनम हमें 🌷
2212 1212
देखा करो सनम हमें ।
समझा करो सनम हमें ।।
ये जिंदगी अजब गजब ।
परखा करो सनम हमें ।।
बहके कदम यहाँ वहाँ ।
रोका करो सनम हमें ।।
भूल गलती न हो कभी ।
टोका करो सनम हमें ।।
यूं प्यार में मिले खुशी ।
साझा करो सनम हमें ।।

………✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
4-10-2023बुधवार

1 Like · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
💐अज्ञात के प्रति-81💐
💐अज्ञात के प्रति-81💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां तो फरिश्ता है।
मां तो फरिश्ता है।
Taj Mohammad
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
VINOD CHAUHAN
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
Dr.Khedu Bharti
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
टेलीफोन की याद (हास्य व्यंग्य)
टेलीफोन की याद (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
Subhash Singhai
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
Rituraj shivem verma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
Loading...