Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

2429.पूर्णिका

2429.पूर्णिका
🌹काश मुझको जान जाते🌹
2122 2122
काश मुझको जान जाते ।
बात मेरी मान जाते ।।
महक जाती जिंदगी भी ।
मौज सीना तान जाते।।
देख मंजिल मिलती यहाँ ।
सोच नेकी छान जाते ।।
प्रेम का बंधन दिखे ना।
चाह क्या पहचान जाते ।।
राह निराली आज खेदू ।
हर खुशी कुरबान जाते ।।
………..✍डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
9-8-2023बुधवार

339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
लोग समझते हैं
लोग समझते हैं
VINOD CHAUHAN
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
*टाले से टलता कहाँ ,अटल मृत्यु का सत्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
"तगादा का दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
Smriti Singh
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
किसी की याद मे आँखे नम होना,
किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
Phool gufran
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
..
..
*प्रणय प्रभात*
इस शहर में
इस शहर में
Shriyansh Gupta
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
हर जगह तुझको मैंने पाया है
हर जगह तुझको मैंने पाया है
Dr fauzia Naseem shad
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
पुनर्जन्म का सत्याधार
पुनर्जन्म का सत्याधार
Shyam Sundar Subramanian
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
What is the new
What is the new
Otteri Selvakumar
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
Loading...