Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 2 min read

21वीं सदी और भारतीय युवा

देश का सबसे बड़ा न्योक्ता रेलवे एवं बैंकिंग सेक्टर हुआ करता था । निजीकरण को बढ़ावा देने के कारण दोनों से रोजगार लगभग गायब कर दिए गए । सेना और पुलिस को भी निजीकरण के क्षेत्र में धकेला जा रहा है । रोजगार के अवसर सिमटते जा रहे है । बेरोजगारों की एक फौज खड़ी हो गई है जिसे अपने आजीविका के लिए न्यूनतम वेतन पर काम करने को मजबूर होना पर रहा है । या यूं कहें तो प्राइवेट सेक्टर इसका भरपूर लाभ लेने की कोशिश में । हर तरफ से युवाओं का शोषण पिछले कुछ वर्षों में बढ़ा है जिसका परिणाम डिप्रेशन के कारण युवाओं में आत्महत्या की घटनाओं में भी इजाफा हुआ है । साथ ही बेरोजगारी के कारण एक पीढ़ी नशाखोरी , ऑनलाइन ठगी जुआ एवं गेम के चपेट में आकर चोरी डकैती जैसी घटनाओं में संलिप्त हो रहा है । हालिया राजनैतिक दलों के क्रियाकलापों ने भी ऐसे लोगों को बढ़ाने में भी कोई कसर नहीं छोड़ा है । अपने राजनैतिक फायदा के लिए पूरी पीढ़ी को तबाही के चौराहे पर लाकर खड़ा कर दिया है ।
बिहार जैसे सीमित संसाधन वाले राज्यों में बेरोजगारी चरम सीमा पर है और पिछले कुछ वर्षों में जिस प्रकार से केंद्र में रोजगार के अवसर कम हुए है और बिहार में शिक्षकों की बहाली का दुष्प्रचार हुआ है एक बड़ा तबका में शिक्षण ट्रेनिंग लेने की होड़ मच गई है । बिहार में रोजगार के अवसर दो ही क्षेत्र में दिखती है अब उसमें भी भीड़ दिखाई पड़ती है वह है शिक्षक और पुलिस ।
कुल मिलाकर यदि केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार मिलकर रोजगार के अवसर को उत्सर्जित कर पाने में विफल रहा तो इसके परिणाम निकट भविष्य में भयावह देखने को मिल सकते है ।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 557 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
Raju Gajbhiye
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
Sanjay ' शून्य'
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
🙅कर्नाटक डायरी🙅
🙅कर्नाटक डायरी🙅
*प्रणय प्रभात*
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं, आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
डॉ.सीमा अग्रवाल
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रणय गीत
प्रणय गीत
Neelam Sharma
व्योम को
व्योम को
sushil sarna
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
ज़िंदगी से गिला
ज़िंदगी से गिला
Dr fauzia Naseem shad
जागता हूँ मैं दीवाना, यादों के संग तेरे,
जागता हूँ मैं दीवाना, यादों के संग तेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/37.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🌺फूल की संवेदना🌻
🌺फूल की संवेदना🌻
Dr. Vaishali Verma
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
सिर्फ उम्र गुजर जाने को
Ragini Kumari
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
"कब तक छुपाहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
Loading...