Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि—-

तुझे समझ लूँ राजहंस यदि क्षीर नीर से अलग करे
तुझे समझ लूँ चातक यदि स्वाति जल की पहचान करे
तुझे समझ लूँ अमृत यदि निष्प्राण देह में प्राण भरे
तुझे समझ लूँ ख़ास ख़ास को अगर ख़ास तू समझ सके |
क्या है ख़ास अगर स्पर्धा में मानवता तज बैठे ?
अगर स्वार्थ के पैरों नीचे न्याय भाव को कुचल उठे ?
अगर शब्द की चतुराई से मासूमों के दिल रौदे
अगर छलों के चक्रव्यूह में अभिमन्यु के सर रौदे
नहीं ख़ास यदि ताकत के बल पर निर्बल को रौंद दिया
नहीं ख़ास यदि धन बल से निर्बल चरित्र को उठा दिया
नहीं खास यदि सम्मोहन से अपनी मनमानी कर ली
नहीं ख़ास यदि बल के आगे आँखें , गर्दन नीचे कीं
तुझे समझ लूँ देव अगर तू भाव अभावों में भर दे
तुझे समझ लूँ ईश अगर करुणा को एक अश्रु जल दे
तुझे समझ लूँ ब्रह्मा यदि मानव मन में अमृत भर दे
और विश्वकर्मा यदि दुःख की सहनशक्ति उन्नत कर दे
तब भी समझूँ ख़ास तुझे यदि साधारण जीवन जी ले
तब भी समझू ख़ास अगर मन को अपने सच्चा रख ले
तब भी ख़ास किसी कौशल को अगर नयी ऊंचाई दे
तब भी ख़ास अगर नैसर्गिक भावों को जीवित रख ले
तुझे समझ लूँ ख़ास ख़ास को अगर ख़ास तू समझ सके |

स्वरचित एवं मौलिक
रचयिता : (सत्य ) किशोर निगम

Language: Hindi
123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kishore Nigam
View all
You may also like:
सुविचार
सुविचार
Sanjeev Kumar mishra
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Sakshi Tripathi
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
"ङ से मत लेना पङ्गा"
Dr. Kishan tandon kranti
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
Suryakant Dwivedi
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
ମାଟିରେ କିଛି ନାହିଁ
Otteri Selvakumar
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
2298.पूर्णिका
2298.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
माया और ब़ंम्ह
माया और ब़ंम्ह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नायाब तोहफा
नायाब तोहफा
Satish Srijan
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रास्तों पर चलने वालों को ही,
रास्तों पर चलने वालों को ही,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
मुश्किल से मुश्किल हालातों से
मुश्किल से मुश्किल हालातों से
Vaishaligoel
Loading...