Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

15- दोहे

वृक्ष धरा पर हैं सभी, कुदरत की पहचान।
इनसे ही जीवन यहाँ, बात सभी लें जान।।

वृक्षारोपण कीजिये, आज दिवस है खास।
यह धरती बिन पेड़ के, लगती बहुत उदास।।

आक्सीजन का वृक्ष में, है अकूत भण्डार।।
जिसके दम से सृष्टि में, है जीवन आधार।।

पेड़ काटकर स्वार्थ हित, नहीं करें बर्बाद।।
जल से इनको सींचिये, देकर जैविक खाद।

अजय कुमार मौर्य ‘विमल’

Language: Hindi
222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धोखा
धोखा
Sanjay ' शून्य'
2850.*पूर्णिका*
2850.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ प्रभात वन्दन
■ प्रभात वन्दन
*Author प्रणय प्रभात*
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
self doubt.
self doubt.
पूर्वार्थ
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
जिसे तुम ढूंढती हो
जिसे तुम ढूंढती हो
Basant Bhagawan Roy
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
आकाश मेरे ऊपर
आकाश मेरे ऊपर
Shweta Soni
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बचपन
बचपन
Vedha Singh
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
मान तुम प्रतिमान तुम
मान तुम प्रतिमान तुम
Suryakant Dwivedi
💐प्रेम कौतुक-267💐
💐प्रेम कौतुक-267💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...