Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 27, 2016 · 1 min read

हां नारी हूँ

” मैं चपला सी तेज युक्त
नभ तक धाक जमाऊँ

आ सूरज, तेरी किरणों से
अपना भाल सजाऊँ

कभी धरा- गांभीर्य ओढकर
मौन का काव्य सुनाऊँ

तितली से लेकर चंचलता
फूलों से रंग चुराऊँ

सरिता सी कल-कल बहती
बाधा से रुक ना पाऊँ

मैं स्वयं भोर की उजली
दुःख तम से क्या घबराऊँ

हाँ नारी हूँ , मैं कोमल मन
पर अबला नहीं कहाऊँ….””

**अंकिता**

1 Like · 1 Comment · 357 Views
You may also like:
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार
Anamika Singh
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Neha Sharma
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
मेरे साथी!
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अरदास
Buddha Prakash
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
Loading...