Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 18, 2016 · 2 min read

सूनी कलाई

माँ क्यू सूनी है मेरी कलाई क्यूँ सूना है अपना अंगना बोलो ना माँ
माँ बोलो ना कहाँ है मेरी बहना ….हर घर में रक्षा सूत्र लेकर आई है बहना
फिर क्यों नहीं चहका अपना अंगना
काश मैं भी होता प्यारी सी बहना का भाई तो क्या सूनी रहती मेरी कलाई ..?
माँ से उत्तर न पाकर पूछा उसने दादी माँ से बोलो ना कहाँ है मेरी बहना ….?
दादी को तो जैसे सूंघ गया हो साँप क्योंकि स्वयं ने किया था घोर पाप
इक मासूम के खून से रंगे थे हाथ कैसे कुबूल करे वो अपना अपराध
भाई ने इतने प्रशनो की झडी लगाई किसीको कुछ कहते हुए न बन पाई
किया साहस भीगी पलकों से झुकी नजरों से कहने लगी ताई
बेटा चुप हो जाओ ना करो हमें मजबूर इस घर का बङा बेरहम है दस्तूर
मेरे भी घर इक बिटिया आई थी मगर इस खानदान को जरा भी ना भाइ थी
मार दिया गया उसे लेते ही जनम कोई नहीं समझ सका माँ का मरम
यहाँ अपराध समझा जाता है बेटी का जनम ना इसीलिए सूना है अपना अंगना
भाई सहम सा गया मगर उससे रहा ना गया कहा उसने अपनी माँ से
माॅ तुम तो नहीं रहीं कभी मजबूर फिर तुमने क्यों निभाया दस्तूर
माँ की जगह फिर बोली ताई बेटा मैंने तो बेटी को जन्म देकर मारा था
तेरी माँ ने तो उसे दे दी कोख में ही विदाई जनम लेने से पहले ही वो हो गई पराई
काँप उठी भाई की आत्मा तिलमिला उठा मन पैदा होते ही क्यों मारा दी जाती है बहन
मन सोचने को हुआ मजबूर क्यो इतना क्रूर है इस घर का दस्तूर
बालमन फिर से मचल उठा फिर से वो पूछने लगा बताओ न दादी कौन बंधेगा मुझको राखी
किसने दिया आपको ये अधिकार कि छीन लें मुझसे मेरी बहन का प्यार
किसके संग खेलू मैं होली किसकी मैं उठाऊंगा डोली …?
हिम्मत करके दादी बोली हाँ मैंने ही किया सबको मजबूर मैंने ही बनाया ये दस्तूर
क्योंकि बेटों से चलती है पीढियां होता है प्रपौत्र तो चढता है सोने की सीढियां
और पहुंचा देता है स्वर्ग देकर बेटी को जन्म क्यों भुगते हम नर्क इसीलिए करते है बेटे और बेटी में फर्क
भाई के दिल पर लगी हथोङे- सी चोट मगर ठान ली उसने बदलकर ररहेगा वो दादी की सोच
बदलकर रहेगा वो दादी की सोच …..

7 Comments · 652 Views
You may also like:
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
अधुरा सपना
Anamika Singh
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Little sister
Buddha Prakash
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समय ।
Kanchan sarda Malu
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
महँगाई
आकाश महेशपुरी
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
Loading...