Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 16, 2016 · 1 min read

बहुत दिन बाद मैं अपने शहर से गाँव आया हूँ ।

? शुभ संध्या ?
? प्रिय मित्रों ?
सहित्यपेडिया में आकर ऐसा लगा जैसे……
??????????????????
बहुत दिन बाद मैं अपने , शहर से गाँव आया हूँ ।

जन्मभूमि यही मेरी , मैं छूने पाँव आया हूँ ।

यहाँ पर माँ की यादें हैं , यहीं बचपन मेरा गुजरा,

पुराना है अभी बरगद , उसी की छाँव आया हूँ ।
??????????????????

? वीर पटेल ?

3 Comments · 351 Views
You may also like:
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Dr. Kishan Karigar
इंतजार
Anamika Singh
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...