Nov 6, 2021 · 1 min read

छठ परब।

छठ परब
प्रकृति परब हैय।
सूर्य के आराधना हैय।

छठ परब
नदी आ तालाब संग
सूर्य के आराधना हैय।

छठ परब
जल सूर्य के संबंध
बरखा चक्र बतबै हैय।

छठ परब
मंत्र पुजारी बिन
सूर्य के आराधना हैय।

छठ परब
सूर्य मंदिर में
सूर्य के पूजा हैय।

छठ परब
प्रकृति परब न
आराधना न पूजा हैय।

छठ परब
ठेकुआ भोग लागैय
प्रसादी में छूत मानैय।

छठ परब
प्रकृति परब के
रामा गरिमा बचनाइ हैय।

स्वरचित © सर्वाधिकार रचनाकाराधीन।

-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सीतामढ़ी।

183 Views
You may also like:
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
जो बीत गई।
Taj Mohammad
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविराज
Buddha Prakash
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुध्द गीत
Buddha Prakash
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math
राम
Saraswati Bajpai
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
पिता का दर्द
Nitu Sah
Loading...