Jun 16, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल
बादलों का एक टुकड़ा, गगन में आया तो है।
बारिशों की ख़्वाहिशों ने, पँख फैलाया तो है।

कब से जाने जल रहे थे, धूप से ये तन-बदन;
और कुछ हो या न हो, कुछ देर को छाया तो है।

ख़ुद तो आया ही किसी राहत भरे ख़त की तरह;
साथ कुछ ठंडी हवा का, दौर भी लाया तो है।

हैं यहीं नज़दीक ही, हम मानसूनी क़ाफ़िले;
वहाँ से अपना यही पैग़ाम भिजवाया तो है।

इतना भी कम तो नहीं, ‘बृजराज’ तेरे वास्ते;
चन्द बूँदों ने सही, पर आज नहलाया तो है।

–बृज राज किशोर

118 Views
You may also like:
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
यादें आती हैं
Krishan Singh
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
वसंत का संदेश
Anamika Singh
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H.
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
Loading...