Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 27, 2016 · 1 min read

गजल

मुहब्बत की सियासत और क्या है
बिना इसके हकीकत और क्या है

चलो बचके सड़क पर मनचलों से
बुजुर्गों की नसीहत और क्या है

हमेशा को नहीं रहते जवाँ सब
जवानी की हरारत और क्या है

छुपे से प्यार करना और मिलना
इसके सिवा मुहब्बत और क्या है

बगावत रोज खुद से ही करेगे
युवाओं की मुसीबत और क्या है

लगी है आग जेहन में तभी तो
सिवा तेरे मुहब्बत और क्या है

मिला है ईश का वरदान सबको
प्यार को छोड़ जन्नत और कहाँ है

जगी है प्यास पीने की हलक तक
सभी की है न हिम्मत और क्या है

जरा उन आशिकों से पूछ लेना
लुटाया खुद लगी जब लत और क्या है

जुदा वो हो गया खुद से बिछड़ के
जवानी लौं जली खत और क्या है

70 Likes · 1 Comment · 370 Views
You may also like:
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
पिता
Buddha Prakash
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पिता
Kanchan Khanna
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
Loading...