Jun 5, 2016 · 1 min read

अँगूरी अर्क

लड़का लड़की में दिखे ,यहाँ न कोई फर्क
दोनों को भाने लगे , खूब अँगूरी अर्क
खूब अँगूरी अर्क , पियें सिगरट सँग हुक्का
ऐसों की भरमार ,न अब ये इक्का दुक्का
कहे अर्चना बात ,न सेवन अच्छा इनका
करतीं ये बर्बाद , पिए लड़की या लड़का

डॉ अर्चना गुप्ता

119 Views
You may also like:
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
शायद...
Dr. Alpa H.
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
कुमार अविनाश केसर
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H.
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
# स्त्रियां ...
Chinta netam मन
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
वार्तालाप….
Piyush Goel
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...