Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

🙏श्याम 🙏

कोई हमसे इनके नैनो की बात न पूछे ,
देखते हैं जब नयन श्याम के ,
हुए हमें मालूम बड़े जादूगर,
नयन से नयन मिले हुए पल में हम श्याम के।

✍️वंदना ठाकुर ✍️

Language: Hindi
289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नाहक करे मलाल....
नाहक करे मलाल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
Dr. Narendra Valmiki
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
Ravi Prakash
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दरबारी फनकार
दरबारी फनकार
Shekhar Chandra Mitra
2703.*पूर्णिका*
2703.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
"लिख दो"
Dr. Kishan tandon kranti
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ओ! मेरी प्रेयसी
ओ! मेरी प्रेयसी
SATPAL CHAUHAN
शाश्वत सत्य
शाश्वत सत्य
Dr.Pratibha Prakash
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
" पहला खत "
Aarti sirsat
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
जो
जो "अपने" का नहीं हुआ,
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...