Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

🔥वक्त🔥

🔥वक्त🔥

वक्त का जायजा लेने
मिलने गए वक्त से। मजबूर था शायद वह
एक वक्त को लेकर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
था नहीं कोई वक्त
किसी खास के लिये
वह बस चल रहा था
एक सबक लेकर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
वक्त,अपना वक्त बिता चुका था
हम में
अपने लिये नहीं बचा था वक्त
पर मैंने गँवाया व्यर्थ हजारों वक्त
वह मजबूर था शायद
मेरे वक्त को लेकर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
शर्मशार था मैं वक्त के सामने
वक्त ने कहा–
जो खोया है सुनहरा वक्त
मैं परेशान हूँ
तुम्हारे वक्त को लेकर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
मैंने कहा–
वह दर्दनाक था मेरा वक्त
छोड़ आया हूँ उसे ही
पर मैंने गँवाया नहीं वक्त।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
वक्त ने कहा–
संघर्ष का वक्त था
उसी वक्त से तुम्हारा
वक्त बदलता
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
तुम,वक्त खो दिये
वक्त को खोकर
मैं परेशान हूँ
तुम्हारे वक्त को लेकर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
जिद्द कर
वक्त पाना है तो
वक्त के आगे चल
वक्त आयेगा तुम्हारे पास
बस संघर्ष कर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️
वक्त को पाने का
एक रास्ता है
तुम वक्त से वक्त छीन लो
एक वक्त को लेकर।
🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

🔥सुरेश अजगल्ले”इन्द्र”🔥

Language: Hindi
1 Like · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
२९०८/२०२३
२९०८/२०२३
कार्तिक नितिन शर्मा
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
Lokesh Sharma
🥰🥰🥰
🥰🥰🥰
शेखर सिंह
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
मर्दों को भी इस दुनिया में दर्द तो होता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कुछ लिखूँ.....!!!
कुछ लिखूँ.....!!!
Kanchan Khanna
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
*छाई है छवि राम की, दुनिया में चहुॅं ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
Dr Archana Gupta
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कानून अंधा है
कानून अंधा है
Indu Singh
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
जिसके हृदय में जीवों के प्रति दया है,
जिसके हृदय में जीवों के प्रति दया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*प्रणय प्रभात*
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
ठोकरें आज भी मुझे खुद ढूंढ लेती हैं
ठोकरें आज भी मुझे खुद ढूंढ लेती हैं
Manisha Manjari
Loading...