Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 2 min read

💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐

##मणिकर्णिका##
##तुम में दिलचस्पी है,बस।
##फालतू मोमबत्तियों में नहीं।
##लूट नहीं हो रही।
##फालतू का ज्ञान मत दो।
##हमारा सहयोग करते रहो।
##किसी के लिए भी धन नहीं है।
##शुक्रिया, विभिन्न सुझावों के लिए।
##कभी मिलेंगे, ठीक है।
##फिर शुक्रिया, कुछ मजबूरी है।
##अपनी किताब भेज दो।
##खरीदी भी नहीं
##मैं उनका,वह मेरे हैं
##उनके लिए भी,मेरे लिए भी,
##जाने कितने आते सबेरे हैं🙂
##धन्यवाद।
##तस्दीक़ कर देना।
##जिसके यहाँ रुका था,वह बहुत दुष्ट है।
##सम्पर्क में मत आना।

उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने,
उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने,
महकते रहे फूल भी तुम्हारी कमी में,
कोई नई बात क्या है तुम्हारी पेशगी में?
कोई रहम,सबर कोई इल्जाम कहाँ है?
बतौर सब मिल गए, वैसे मिलेंगे जमी में,
कभी मिल सके न तो फिर कैसे जाने,
उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने।।1।।
रिन्दों ने कहा तुम छलकने उन्हें दो,
और कहा न सुने तो कसम मेरी उन्हें दो,
ज़माने गए बिना देखे तुम्हें ओ दिलबर,
दिखाकर मुस्कुराहट तसल्ली हमें दो,
कभी देखा न,न कोई बोसी, लगे दिल में समाने,
उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने।।2।।
कोई बहाने को लेकर कभी तो मिलते,
काँटे नहीं थे,दो दिल ही तो मिलते,
अज़ीब दास्ताँ है, न कहना न सुनना,
कभी न दिखाई दिए उनके लब भी हिलते,
टूटा हुआ है दिल,तो फिर क्यों लगे हैं लुभाने,
उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने।।3।।
कोई मज़मून न हो,तो मुस्कान दे दें,
चलो सब जानकर ही अन्जान कह दें,
कोई सितम करें या कोई घाव दें दें,
भूलें सब,अब,अपनी पहचान दें दें,
कभी रूठे ही नहीं, तो क्यों हैं मनाने?
उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने।।4।।

बोसी-चूमना

©®अभिषेक: पाराशरः’आनंद’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 66 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
बादल  खुशबू फूल  हवा  में
बादल खुशबू फूल हवा में
shabina. Naaz
किसी की किस्मत संवार के देखो
किसी की किस्मत संवार के देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
81 -दोहे (महात्मा गांधी)
81 -दोहे (महात्मा गांधी)
Rambali Mishra
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Sakshi Tripathi
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-359💐
💐प्रेम कौतुक-359💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फितरत
फितरत
umesh mehra
*किसी की जेब खाली है, किसी के पास पैसे हैं 【मुक्तक】*
*किसी की जेब खाली है, किसी के पास पैसे हैं 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
"स्वर्ग-नरक की खोज"
Dr. Kishan tandon kranti
कश्मीरी पंडित
कश्मीरी पंडित
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
नव्य उत्कर्ष
नव्य उत्कर्ष
Dr. Sunita Singh
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
आर.एस. 'प्रीतम'
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
मार न डाले जुदाई
मार न डाले जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
लैला लैला
लैला लैला
Satish Srijan
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️
Tarun Prasad
वीरगति
वीरगति
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भ्रमन टोली ।
भ्रमन टोली ।
Nishant prakhar
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
Dr. Rajiv
■ विज्ञापनलोक
■ विज्ञापनलोक
*Author प्रणय प्रभात*
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
Loading...