Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2022 · 1 min read

✍️हम जिस्म के सूखे एहसासो से बंझर है

रोज कही ना कही
उठती होगी आवाजें
हमें तो शोरशराबे की
आदत सी पड़ गयी है…!

रोज कही ना कही
उठता होगा धुँवा
हम तो अंगारों में
झुलसते ही रहते है…!

तुम इन सर्द ख़ामोशी
में भीतर तक सहमे हुए
बर्फ की तरह जम गये हो
क्या तुम्हे गूँजती आवाजों से
बरसते हुए अंगारे नजर नही आते..?

या फिर तुम जलते
हुए रोम को देखकर
फिडेल बजानेवाले ‘नीरो’
की तरह पीड़ामुक्त हो..?
या फिर जान बूझकर
तुम ‘गांधारी’ बने हुए हो..?
ताकि महसूस तो हो मगर
नजरअंदाज करने की जरुरत ना हो…!

रोज कही ना कही बस यही मंझर है
उठती आवाजो को दबाकर…
दहकते अंगारों को बुझाकर…
हम जिस्म के सूखे एहसासो से बंझर है
………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
08/10/2022

3 Likes · 9 Comments · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नरसिंह अवतार विष्णु जी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
Dr.Khedu Bharti
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
"वक्त"
Dr. Kishan tandon kranti
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अभिनेत्री वाले सुझाव
अभिनेत्री वाले सुझाव
Raju Gajbhiye
♥️
♥️
Vandna thakur
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
ठीक है
ठीक है
Neeraj Agarwal
🌷मनोरथ🌷
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार कर्ण
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
■ सारा खेल कमाई का...
■ सारा खेल कमाई का...
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
आज रात कोजागरी....
आज रात कोजागरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"The Divine Encounter"
Manisha Manjari
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
पूर्वार्थ
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
नरक और स्वर्ग
नरक और स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...