Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

✍️संस्कारो से सादगी तक

अल्फाज़ो की
सोच समझ
आपके तालीम
और संस्कारो की
एक बेहतरीन
मिसाल होती है

आवाजो के
इस शोरशराबो में
सिर्फ ख़ामोशी
और सादगी
इंसानियत के लिये
बेमिसाल होती है
…………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
27/09/2022

2 Likes · 5 Comments · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शिक्षक"
Dr Meenu Poonia
24/248. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/248. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Hallucination Of This Night
Hallucination Of This Night
Manisha Manjari
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
तुम्हें अहसास है कितना तुम्हे दिल चाहता है पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हर लम्हा
हर लम्हा
Dr fauzia Naseem shad
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
मन
मन
Ajay Mishra
कैसे कहें घनघोर तम है
कैसे कहें घनघोर तम है
Suryakant Dwivedi
आंखों देखा सच
आंखों देखा सच
Shekhar Chandra Mitra
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
शेखर सिंह
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
कौशल्या नंदन
कौशल्या नंदन
Sonam Puneet Dubey
*पछतावा*
*पछतावा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
Jitendra Chhonkar
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
*वन की ओर चले रघुराई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
■ शर्मनाक सच्चाई….
■ शर्मनाक सच्चाई….
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
पूर्वार्थ
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
Paras Nath Jha
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
Loading...