Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

✍️वो इंसा ही क्या ✍️

वो दरिया ही क्या जो किसी की प्यास ना बुझा सके,
वो दीपक ही क्या जो अंधकार ना मिटा सके,
वो कश्ती ही क्या जो साहिल से ना मिला सके,
वो रास्ता ही क्या जो मंज़िल तक ना पहुँचा सके,
ना जाने क्यों लोग समझते नहीं इस बात को,
वो इंसा ही क्या जो इंसा के काम ना आ सके।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

Language: Hindi
10 Likes · 12 Comments · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काव्य
काव्य
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर एकपल तेरी दया से माँ
हर एकपल तेरी दया से माँ
Basant Bhagawan Roy
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
ना जाने क्यों...?
ना जाने क्यों...?
भवेश
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ यादों की खिड़की-
■ यादों की खिड़की-
*Author प्रणय प्रभात*
मतदान
मतदान
Anil chobisa
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
कब हमको ये मालूम है,कब तुमको ये अंदाज़ा है ।
Phool gufran
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
Work hard and be determined
Work hard and be determined
Sakshi Tripathi
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
Rj Anand Prajapati
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
"किसे कहूँ मालिक?"
Dr. Kishan tandon kranti
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
***
***
sushil sarna
Loading...