Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

✍️क्या सीखा ✍️

किसी ने पूछा दुनिया में सबसे अच्छा क्या सीखा,
मैंने कहा वैसे तो बहुत कुछ सीखा,
कभी मुस्कुराना तो कभी दर्द से खेलना सीखा,
पर सबसे बेहतर अपनो के धोके झेलना सीखा।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

9 Likes · 10 Comments · 89 Views
You may also like:
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
कहां पता था
dks.lhp
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
जिस्म खूबसूरत नहीं होता
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
आओ अब यशोदा के नन्द
शेख़ जाफ़र खान
श्री रामनामी दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
जलने दो
लक्ष्मी सिंह
उसका हर झूठ सनद है, हद है
Anis Shah
बेटी को लेकर सोच बदल रहा है
Anamika Singh
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ज़रूरी थोड़ी है
A.R.Sahil
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
ज़मीं की गोद में
Dr fauzia Naseem shad
"अच्छी आदत रोज की"
Dushyant Kumar
बदलते मौसम
Dr Archana Gupta
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
'तकलीफ', नाकामयाबी सी
Seema 'Tu hai na'
*महाराजा अग्रसेन 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
'भारत की प्रथम नागरिक'
Godambari Negi
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
✍️वो सब अपने थे...
'अशांत' शेखर
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...