Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

■ एक ही उपाय ..

■ एक ही उपाय ..
हम जगत को सुधार पाने में न कल समर्थ थे, न आज हैं और न ही कल होंगे। हां, खुद को सुधार कर हम बहुत कुछ सुधार सकते हैं। ग़ैरत को गिरवी रखने की बीमारी से उबर सकें तो।।
■प्रणय प्रभात■

Language: Hindi
2 Likes · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन
मन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
कवि रमेशराज
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
ओसमणी साहू 'ओश'
जोशी मठ
जोशी मठ
Shekhar Chandra Mitra
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
पतंग
पतंग
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
#बधाई
#बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आश किरण
आश किरण
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
मजदूर हुआ तो क्या हुआ
मजदूर हुआ तो क्या हुआ
gurudeenverma198
*तीर्थ शिक्षा के खोले ( कुंडलिया )*
*तीर्थ शिक्षा के खोले ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
ये सच है कि उनके सहारे लिए
ये सच है कि उनके सहारे लिए
हरवंश हृदय
जमाने से क्या शिकवा करें बदलने का,
जमाने से क्या शिकवा करें बदलने का,
Umender kumar
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
कुफ्र ओ शिर्क जलजलों का वबाल आएगा।
कुफ्र ओ शिर्क जलजलों का वबाल आएगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" फ्रीज "
Dr Meenu Poonia
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी  जाऊ
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी जाऊ
Swami Ganganiya
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
मुर्शिदे कामिल है।
मुर्शिदे कामिल है।
Taj Mohammad
रात है यह काली
रात है यह काली
जगदीश लववंशी
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...