Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 7, 2016 · 1 min read

■ आज बदला ले लिया हमने जो पाकिस्तान से ■

? आज बदला ले लिया हमने जो’ पाकिस्तान से
मिल गई है हार अब जो आज हिंदुस्तान से १

पाक को अब आज फिर समशान तक पहुँचा दिया
आज भारत का हुआ सीना बड़ा सम्मान से २

बढ़ गया है मान अब सम्मान मेरे देश का
देख अब लहरा रहा है फिर तिरंगा शान से ३

आइने में देख खुद को फिर हमी से बात कर
बात मेरी सुन जरा अब पाक मेरी ध्यान से ४

रो रहा है पाक अपनी भूल पर जो ठीस कर
मार डाले हैं दरिन्दे घर में घुस के जान से ५

पास तेरे कुछ नहीं है अब पटाखों के सिवा
फिर हमें धमका रहा हैं जंग के ऐलान से ६

बाँटता वो फिर रहा था प्यार हमसे ही सदा
छल रहा था पीठ पीछे बैठ कर आसान से ७

जान से भी देश प्यारा है हमे सुन लो यहाँ
हम पचासों मार आये है बड़े ही मान से ८

मर मिटे जो देश के खातिर करे उनको नमन
वो उजाले दे गए हम को वतन की आन से ९

लाख दुश्वारी सही, हर साँस में इक दर्द है
जी रहे हैं लोग फिर भी जिंदगी मुस्कान से १०

आज फिर ताजा हुआ है अब उरी हमला नितिन
दर्द अब में ,लिख रहा हूँ , खुद के ही अरकान से

143 Views
You may also like:
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
अनामिका सिंह
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मरने के बाद।
Taj Mohammad
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
साथ तुम्हारा
Rashmi Sanjay
पूरी करता घर की सारी, ख्वाहिशों को वो पिता है।
सत्य कुमार प्रेमी
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
✍️✍️गांधी✍️✍️
"अशांत" शेखर
कविगोष्ठी समाचार
Awadhesh Saxena
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
अशांत मन
Mahender Singh Hans
Loading...