Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 1 min read

■ आज बदला ले लिया हमने जो पाकिस्तान से ■

? आज बदला ले लिया हमने जो’ पाकिस्तान से
मिल गई है हार अब जो आज हिंदुस्तान से १

पाक को अब आज फिर समशान तक पहुँचा दिया
आज भारत का हुआ सीना बड़ा सम्मान से २

बढ़ गया है मान अब सम्मान मेरे देश का
देख अब लहरा रहा है फिर तिरंगा शान से ३

आइने में देख खुद को फिर हमी से बात कर
बात मेरी सुन जरा अब पाक मेरी ध्यान से ४

रो रहा है पाक अपनी भूल पर जो ठीस कर
मार डाले हैं दरिन्दे घर में घुस के जान से ५

पास तेरे कुछ नहीं है अब पटाखों के सिवा
फिर हमें धमका रहा हैं जंग के ऐलान से ६

बाँटता वो फिर रहा था प्यार हमसे ही सदा
छल रहा था पीठ पीछे बैठ कर आसान से ७

जान से भी देश प्यारा है हमे सुन लो यहाँ
हम पचासों मार आये है बड़े ही मान से ८

मर मिटे जो देश के खातिर करे उनको नमन
वो उजाले दे गए हम को वतन की आन से ९

लाख दुश्वारी सही, हर साँस में इक दर्द है
जी रहे हैं लोग फिर भी जिंदगी मुस्कान से १०

आज फिर ताजा हुआ है अब उरी हमला नितिन
दर्द अब में ,लिख रहा हूँ , खुद के ही अरकान से

273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
संतोष
संतोष
Manju Singh
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
Sarfaraz Ahmed Aasee
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
आदत न डाल
आदत न डाल
Dr fauzia Naseem shad
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
💐प्रेम कौतुक-490💐
💐प्रेम कौतुक-490💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भाई लोग व्यसन की चीज़ों की
भाई लोग व्यसन की चीज़ों की
*Author प्रणय प्रभात*
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
बेहयाई दुनिया में इस कदर छाई ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
किसी पत्थर पर इल्जाम क्यों लगाया जाता है
किसी पत्थर पर इल्जाम क्यों लगाया जाता है
कवि दीपक बवेजा
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
ruby kumari
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
जबकि मैं इस कोशिश में नहीं हूँ
जबकि मैं इस कोशिश में नहीं हूँ
gurudeenverma198
Loading...