Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

••नक्शे कदम हमारे••

नक्शे कदम हमारे वैसे तो चाँद पर हैं हैरत है इस जमीं पर चलना हमें न आया.. हे मूर्ख मानव अब क्यूँ तू घबराया तब नहीं सोचा जब प्रकॄति पर कहर ढाया आज जरा सी ? हिली तो खुदा याद आयानक्शे कदम हमारे वैसे तो चाँद पर हैं हैरत है इस जमीं पर चलना हमें न आया……………
जब पेड़ो पर चलाकर आरा (धरती) ? माता को निर्वस्त्र कर रहे थे तब नहीं सोचा वो जरा सी हिली क्या सब हिल गये

Language: Hindi
2 Likes · 290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
💐अज्ञात के प्रति-63💐
💐अज्ञात के प्रति-63💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बुक समीक्षा
बुक समीक्षा
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री मन
स्त्री मन
Surinder blackpen
जब दूसरो को आगे बड़ता देख
जब दूसरो को आगे बड़ता देख
Jay Dewangan
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसका चौकीदार?
किसका चौकीदार?
Shekhar Chandra Mitra
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*बदलना और मिटना*
*बदलना और मिटना*
Sûrëkhâ Rãthí
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
पानी में हीं चाँद बुला
पानी में हीं चाँद बुला
Shweta Soni
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आ गया है मुस्कुराने का समय।
आ गया है मुस्कुराने का समय।
surenderpal vaidya
*अध्याय 4*
*अध्याय 4*
Ravi Prakash
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
*Author प्रणय प्रभात*
जन्मदिन की शुभकामना
जन्मदिन की शुभकामना
Satish Srijan
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
खुद की तलाश में।
खुद की तलाश में।
Taj Mohammad
Loading...