Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

टक्कर

टक्कर ना हो
चलना सम्भल के,
दीखता है जो
होता नही है ।
खुले साँड़ों का
क्या बात करना,
घुमती यूँ गायें
मनमानी हुई हैं ।
रास्ते कहानी यूँ
बयां करती है,
घोड़ी किसी की
घोड़ा कोई बना है ।
मिलना गले से
छलावा बड़ा ये,
नफ़रत जताने का
तरीक़ा नया है ।
सड़क पर इन्सानी
आतंक बरपा , और
आतंकी परींदा ,बेख़ौफ़
नभ में पला है ।
कैसे बताएँ ,क्यों
हर शख़्स सहमा,
क़ातिल रहनुमा का
ना कोई पता है ।
डा॰ नरेन्द्र कुमार तिवारी

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह कब जान पाता है एक फूल,
यह कब जान पाता है एक फूल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*स्वच्छ रहेगी गली हमारी (बाल कविता)*
*स्वच्छ रहेगी गली हमारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
Er. Sanjay Shrivastava
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
चतुर लोमड़ी
चतुर लोमड़ी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
जिंदगी के साथ साथ ही,
जिंदगी के साथ साथ ही,
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
मिलन
मिलन
Gurdeep Saggu
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
दोस्ती....
दोस्ती....
Harminder Kaur
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
इस घर से .....
इस घर से .....
sushil sarna
गुरु माया का कमाल
गुरु माया का कमाल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
■ विनम्र अपील...
■ विनम्र अपील...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...