Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2017 · 1 min read

।। बेटी ।।

बेटी,,,

आंसु नहीं वह मोतियों की लड़ी है,
आंगन में जिनके, बेटी खड़ी है,,

हँसी से उसकी, घर दमकता है जैसे,
हीरे की कनी, सोने में जड़ी है,,

सिर को दबाती, हाथ भी बटाती वो,
माँ के साथ जो, रसोई में खड़ी है,,

कलाई में भईया के, संसार को बांधे,
खुशियों की वह , अनमोल घड़ी है,,

गुड्डे-गुडियों के, खेल में जो डूबी,
घूंघट में जैसे, परी नन्ही खड़ी है,,

जाएगी एक दिन, डोली में बैठकर,
आंसुओं में भी, खुशी की झड़ी है,,

जोड़ेगी दो घरों को, जो बहु बनकर,
मर्यादा की वह , मजबूत कड़ी है,,

माँ से बेटी का, ये ममता का रिश्ता,
जिस्म से जैसे, हर सांस जुड़ी है,,

इंजी.हेमंत कुमार जैन
जबलपुर ।

Language: Hindi
308 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
भगतसिंह का क़र्ज़
भगतसिंह का क़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
💐प्रेम कौतुक-505💐
💐प्रेम कौतुक-505💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
-- नसीहत --
-- नसीहत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
मुस्कुरायें तो
मुस्कुरायें तो
sushil sarna
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧
Ms.Ankit Halke jha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#गौरवमयी_प्रसंग
#गौरवमयी_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काश तुम ये जान पाते...
काश तुम ये जान पाते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
Mamta Rani
गजब गांव
गजब गांव
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
2796. *पूर्णिका*
2796. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
Loading...