Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

“ज़िल्द नहीं चढा सकी”

ज़िंदगी की किताब के पन्ने,
बिखरे पडे हैं कुछ इस तरह,
कि ज़िल्द भी न चढा सकी ,
हवा के रुख के साथ-साथ,
फड़फड़ाते जा रहे हैं बेतरतीब,
आंखों की नमी से कुछ पन्ने,
हो चले हैं गीले और धुंधले से,
कुछ तो खो गये जाने कहाँ,
कई बार कोशिश की मैंने,
गोंद से चिपकाने की उसे,
पर पन्ने बिखरते चले गये,
और इनके क्रम भी बिगड़ गये,
कभी शोर तो कभी सन्नाटे के बीच,
पन्नों की फड़फड़ाहट सुनती रही,
मगर वो जिल्द नही चढा सकी,
जिस पर अपना नाम लिख सकूँ||
…निधि …

Language: Hindi
Tag: कविता
141 Views
You may also like:
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
आओगे मेरे द्वार कभी
Kavita Chouhan
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी के हिस्से में
Dr fauzia Naseem shad
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
"शिक्षक तो बोलेगा"
पंकज कुमार कर्ण
जो देखें उसमें
Dr.sima
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️खंज़र चलाते है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
"दूब"
Dr Meenu Poonia
नारी सृष्टि निर्माता के रूप में
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अप्रैल-फूल दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
ग़ज़ल- फिर देखा जाएगा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
Writing Challenge- अलविदा (Goodbye)
Sahityapedia
'क्या लिखूँ, कैसे लिखूँ'?
Godambari Negi
इंसाफ़ मिलेगा क्या?
Shekhar Chandra Mitra
अख़बार
आकाश महेशपुरी
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️भरोसा✍️
'अशांत' शेखर
Loading...