Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

“ज़िल्द नहीं चढा सकी”

ज़िंदगी की किताब के पन्ने,
बिखरे पडे हैं कुछ इस तरह,
कि ज़िल्द भी न चढा सकी ,
हवा के रुख के साथ-साथ,
फड़फड़ाते जा रहे हैं बेतरतीब,
आंखों की नमी से कुछ पन्ने,
हो चले हैं गीले और धुंधले से,
कुछ तो खो गये जाने कहाँ,
कई बार कोशिश की मैंने,
गोंद से चिपकाने की उसे,
पर पन्ने बिखरते चले गये,
और इनके क्रम भी बिगड़ गये,
कभी शोर तो कभी सन्नाटे के बीच,
पन्नों की फड़फड़ाहट सुनती रही,
मगर वो जिल्द नही चढा सकी,
जिस पर अपना नाम लिख सकूँ||
…निधि …

Language: Hindi
201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#लघुकथा / #न्यूज़
#लघुकथा / #न्यूज़
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Sukoon
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
Rj Anand Prajapati
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
💐अज्ञात के प्रति-104💐
💐अज्ञात के प्रति-104💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अहङ्कारी स एव भवति यः सङ्घर्षं विना हि सर्वं लभते।
Mukul Koushik
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
अब कौन सा रंग बचा साथी
अब कौन सा रंग बचा साथी
Dilip Kumar
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
काहे का अभिमान
काहे का अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
Surinder blackpen
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
पेशावर की मस्जिद में
पेशावर की मस्जिद में
Satish Srijan
भूल गयी वह चिट्ठी
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
पीने -पिलाने की आदत तो डालो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
बदलते रिश्ते
बदलते रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ज़िंदगी के सवाल का
ज़िंदगी के सवाल का
Dr fauzia Naseem shad
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...