Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2016 · 1 min read

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई
ज्यूँ बुढ़ापे सी जवानी रह गई

दर दरीचे खोल दे घर बार के
अब नहीं बिटिया सयानी रह गई

नाव कागज़ की चलायेंगे कहाँ?
देख गंगा तक बे-पानी रह गई

झूठ अपनी शान में मदहोश है
कटघरे में सच बयानी रह गई

पेट भर कर और का भूखे मरें
इस वतन में यूँ किसानी रह गई

बात मत कर अब ज़मीरों की यहाँ
जब तवायफ राज-रानी रह गई

लाख बातें कर के आया हूँ उसे
अब भी कुछ उसको सुनानी रह गई

मौज में दुनिया है , बामुश्किल मगर
मुददतों से, बस दिवानी रह गई

2 Comments · 331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
तीन सौ वर्ष की आयु  : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
तीन सौ वर्ष की आयु : आश्चर्यजनक किंतु सत्य
Ravi Prakash
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
ruby kumari
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
💐प्रेम कौतुक-271💐
💐प्रेम कौतुक-271💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
सत्य को सूली
सत्य को सूली
Shekhar Chandra Mitra
■ अपना मान, अपने हाथ
■ अपना मान, अपने हाथ
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
What I wished for is CRISPY king
What I wished for is CRISPY king
Ankita Patel
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
रोशनी का पेड़
रोशनी का पेड़
Kshma Urmila
स्वस्थ तन
स्वस्थ तन
Sandeep Pande
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
Loading...