Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई
ज्यूँ बुढ़ापे सी जवानी रह गई

दर दरीचे खोल दे घर बार के
अब नहीं बिटिया सयानी रह गई

नाव कागज़ की चलायेंगे कहाँ?
देख गंगा तक बे-पानी रह गई

झूठ अपनी शान में मदहोश है
कटघरे में सच बयानी रह गई

पेट भर कर और का भूखे मरें
इस वतन में यूँ किसानी रह गई

बात मत कर अब ज़मीरों की यहाँ
जब तवायफ राज-रानी रह गई

लाख बातें कर के आया हूँ उसे
अब भी कुछ उसको सुनानी रह गई

मौज में दुनिया है , बामुश्किल मगर
मुददतों से, बस दिवानी रह गई

2 Comments · 232 Views
You may also like:
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
Green Trees
Buddha Prakash
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
Little sister
Buddha Prakash
महँगाई
आकाश महेशपुरी
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
Loading...