Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2017 · 1 min read

ज़िन्दगी के बदलते रंग

दिनों दिन
मेरे जज्बात
बर्फ की तरह होते जा रहे हैं
झक सफेद
बेरंग से
ठंडे-ठंडे

जब भी अकेला होता हूँ
निपट तन्हाइयों में
ढूंढता फिरता हूँ मैं
कुछ गुलाबी जज्बातों को
उन चटकीले अहसासों को
कुछ सुनहरे सपनों को

पर न जाने क्यों
दूर दूर तक
रंग के एक छींटे भी नहीं दिखाई देते
अब सब कुछ बस बेरंग से
या यूँ कहूँ
बदरंग से दिखाई देते हैं

वो खुशनुमा
हरे भरे जज्बात भी मानो
गुम हो गए हैं कहीं
जिंदगी के इस चिड़ियाघर में
और सब कुछ होते हुए भी
लगता है मेरे दोनों हाथ
बस रीते रह गए हैं
बिल्कुल ही खाली

यूँ ही कभी कभी
बहुत याद आते हैं मुझे
वो लाल-पीले जज्बात भी
जो दुबक कर बैठे हैं
मन के भीतर
बहुत अंदर
किसी कोने में
और अब
मेरी नजरों के सामने
किसी के साथ कितना भी बुरा हो जाये
किसी को निर्वस्त्र ही क्यों ना कर दिया जाये
मेरी सन्वेदनाएं नहीं जागती
और बर्फ सा
बुत बना
भीड़ में खड़ा
देखता रहता हूँ मैं सब कुछ
चुपचाप

मानो
मौन स्वीकृति हो मेरी भी

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
भोपाल

Language: Hindi
538 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*Author प्रणय प्रभात*
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
मैं हूं न ....@
मैं हूं न ....@
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसने क़ीमत वसूल कर डाली
उसने क़ीमत वसूल कर डाली
Dr fauzia Naseem shad
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
लड्डू बद्री के ब्याह का
लड्डू बद्री के ब्याह का
Kanchan Khanna
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
Transparency is required to establish a permanent relationsh
Transparency is required to establish a permanent relationsh
DrLakshman Jha Parimal
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
Ravi Prakash
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
दरोगा तेरा पेट
दरोगा तेरा पेट
Satish Srijan
"असली-नकली"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ज़रूरी है...!!!!
ज़रूरी है...!!!!
Jyoti Khari
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
Loading...